Aharbinger's Weblog

Just another WordPress.com weblog

पहुंचा, कि नहीं

Posted by Isht Deo Sankrityaayan on April 28, 2007

घूरे को
बूंदाबांदी के बाद
घाम,
बूढ़े बरगद को
सादर प्रणाम –
पहुँचा कि नहीं?

खादी की धोती के नीचे
आयातित ब्रीफ,
और स्वदेशी के नारे पर
रेखांकित ग्रीफ.

अंकल ने पूछा है,
पित्रिघात का
पूरा दाम –
पहुँचा कि नहीं?

समान संहिता
आचार-विचार की
मरुथल में
क्रीडा
जल-विहार की

फिर भी देखो
व्हाइट हॉउस को
जय श्री राम –
पहुँचा कि नहीं?

इष्ट देव सांकृत्यायन

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: