Aharbinger's Weblog

Just another WordPress.com weblog

कौन गया

Posted by Isht Deo Sankrityaayan on May 1, 2007

मेरे
आंगन के
तुलसीचौरे पर –
दीप जला कर
कौन गया?
शालिग्राम पर
श्रध्दा के
फूल
चढ़ा कर
कौन गया?

टिमटिम करता दिया
न जाने
क्या-क्या
कह जाता है.
सब कुछ
कह कर भी
वह
चुप ही
रह जाता है.

अनमनपन की
चादर ताने
सोया था
मधुमास-
जगा कर
कौन गया?

मैंने ले लिया
न जाने
कैसे
अश्वमेध का संकल्प.
अग्निहोत्र से
बचने का
अब
कोई नहीं
विकल्प.

इस थाली में
कुमकुम
अक्षत
दूब
सजा कर
कौन गया?

इष्ट देव सांकृत्यायन

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: