Aharbinger's Weblog

Just another WordPress.com weblog

…तो इसलिए जिंदा है भारतीय सभ्यता!

Posted by Isht Deo Sankrityaayan on January 1, 2008

– हिंदू समाज जब जातिहीन बनेगा, तभी उसमें अपनी रक्षा करने की क्षमता आएगी। – भारतीय संविधान के निर्माता डॉक्टर भीमराव आंबेडकर , एनहिलेशन ऑफ कास्ट में।

– हिंदू समाज लगातर बदलता रहा है। कई बार उसमें भारी बदलाव आए हैं। कहां हैं वेदों में वर्णित इंद्र, कहां हैं वरुण, कहां हैं ब्रह्मा और कहां हैं मित्र। वो गायब हो गए। ब्राह्मणों ने न सिर्फ वैदिक देवताओं को छोड़ा बल्कि फायदा देखकर वो मुस्लिम पीर तक के उपासक बन गए। – डॉक्टर आंबेडकर, रिडल्स इन हिंदूइज्म की प्रस्तावना में

इलाहाबाद यूनिवर्सिटी के एंथ्रोपॉलोजिस्ट वी एस सहाय ने ये दावा किया है कि जाति व्यवस्था की वजह से ही प्राचीन भारतीय सभ्यता इतने झंझावातों को झेलकर जिंदा है। जाति प्रथा की वजह से भारतीय सभ्यता-संस्कृति के अक्षय होने के बारे में इस दावे में अगर कुछ नया है तो सिर्फ इतना कि इस निष्कर्ष तक पहुंचने के साधन अलग होंगे। वरना समाजशास्त्रीय और ऐतिहासिक सामग्री के आधार पर शोधकर्ता कई दशक पहले ऐसी बात कह गए हैं। नीचे लिखी पंक्तियां पढ़िए –

दो हजार वर्ष पूर्व आर्य समाज का राज यंत्र शक, यवन, मेद, पारसिक आदि ने छीन लिया था। जातिबद्ध आर्य समाज उस संकट को सही सलामत पार गया। सात सौ वर्ष पूर्व मुसलमानों ने राज यंत्र हथिया लिया, तब भी आर्य समाज साबित रहा। इस प्रकार जाति व्यवस्था आठ-दस हजार वर्षों से हमारे लिए हितकारी रही है। बुद्धिभ्रंश होकर उस लाभदायक संस्था को हम साहसपूर्वक त्याग दें, अन्य प्राचीन एवं अर्वाचीन साम्राज्यों की भांति हमारे वंश का, संस्कृति का और अंत में हमारे समाज का नामशेषता की सीमा तक ध्वंस हो जाएगा। (अध्याय4, पेज 51)

भारतीय संस्कृति के अव्यय और अक्षय होने के बारे में ये निष्कर्ष महापंडित विश्वनाथ काशीनाथ राजवाड़े का है। हिंदू समाज में अहिंदुओं का समावेश विषय पर उनका ये निबंध भारतीय इतिहास संशोधक मंडल के चतुर्थ सम्मेलन वृत्त में छपा है। इस लेख को आप साहित्य अकादमी द्वारा प्रकाशिक राजवाड़े लेख संग्रह में पढ़ सकते हैं। इसी निबंध का एक और अंश देखिए-

ईरान, अफगानिस्तान और बलूचिस्तान में हिंदुस्तान की भांति जाति संस्था उस काल में नहीं थी, इसी कारण इस्लामी उत्पात के सामने उन्हें बुरी तरह झुकना पड़ा। जैसा उनका नाश हुआ वैसा, हिंदुस्तान का नहीं हुआ। इसका श्रेय हिंदू समाज की जाति संस्था को देना चाहिए। जब तक हिंदू जाति संस्था है, तब तक बाह्यजनों के कितने ही आक्रमण हों, कैसे ही उत्पात हों, उनकी शुद्धता और संस्कृति भंग नहीं होगी, इसके विपरीत उत्पात करने वालों के समाज और संस्कृति में अवश्य परिवर्तन होगा। (अध्याय4, पेज-57)

लेकिन इतिहास के इस महान अध्येता के इन तर्कों को जाति व्यवस्था के पक्ष में इस्तेमाल करने की कामना करने वालों को सावधान रहना चाहिए । क्योंकि राजवाड़े भविष्य में एक ऐसे भारतीय समाज की कल्पना करते हैं जो एकजातीय होगा। फिर राजवाड़े का कालखंड सहाय जी से लगभग एक शताब्दी पहले का है। उस समय इस बात के संकेत तो मिलने लगे थे कि सामंती उत्पादन संबंध की अवनति हो रही है। लेकिन उन संबंधों के निर्णायक रूप से खत्म होना आज जिस तरह स्पष्ट दिख रहा था, वो तब नहीं था। इसलिए एक सदी पहले जाति और उसके सामाजिक सांस्कृतिक संबंधों की जो व्याख्या की गई थी, उसे आज दोहराया जाए, तो कौन सुनेगा और कौन गुणेगा।

इतिहास और भारतीय धर्मग्रंथों के एक और निर्विवाद टीकाकार तर्कतीर्थ लक्ष्मणशास्त्री जोशी को पढ़िए। 16 खंडों में प्रकाशित धर्मकोश के संपादक और 1951 में पुनर्निमित सोमनाथ मंदिर के प्रथम प्रधान पुरोहित जोशी जी अपनी चर्चित कृति वैदिक संस्कृति का विकास में लिखते हैं-

वर्णपरिवर्तन की क्रिया के शिथिल पड़ने तथा अंत में रुक जाने की वजह से जातिभेद की नींव डाली गई। परिवर्तन की क्रिया के अवरोध का एक महत्वपूर्ण आर्थिक कारण भी है। यह है ग्राम संस्था के पोषक ग्रामोद्योगों की वंश परंपरा से चली आनेवाली स्थिरता। सिंधु संस्कृति के विध्वंश के उपरांत भारतवर्ष में नगर संस्कृति को प्रधानता किसी भी समय न मिली। ग्राम अथवा देहात से संबद्ध अर्थशास्त्र का निरंतर बने रहना जातिभेद की उत्पत्ति में सहायक बना। (अध्याय 3, पेज 128)

जाति और उत्पादन संबंधों के बीच रिश्तों को नकारने वालों को ये बात ध्यान से पढ़नी चाहिए। जोशी जी अपनी इसी किताब में आगे आधुनिक भारत का सास्कृतिक आंदोलन में लिखते हैं-

अंग्रेजी राज्य या शासन की नीति तथा सुधारों का दृष्टिकोण परस्पर पूरक ही थे। अंग्रेजी शासन के कानून के मुताबिक इस देश की समूची प्रजा का स्तर समान ही माना गया है। (अध्याय 6, पेज 272), मेरी टिप्पणी – गौरतलब है कि मैकाले के नेतृत्व में लॉ कमीशन ने पहली बार ये माना कि अपराध के दंड में जाति की कोई भूमिका नहीं है और हर व्यक्ति कानून की दृष्टि में समान है। उससे पहले तक हर जाति को समान अपराध के लिए अलग अलग दंड देने का विधान था। लॉ कमीशन की रिपोर्ट के आधार पर ही देश में आईपीसी और सीआरपीसी के आधार पर अपराधों की मींमांसा और दंड संहिता का विधान हुआ।

जोशी जी आगे लिखते हैं-

अंग्रेजी कानून ने निरुपाय होकर उस धारा को अपनाया जो हिंदू धर्म की श्रुतियों, स्मृतियों तथा पुराणों में ग्रंथित कानून के विरुद्ध थी। उसने सती की प्रथा का प्रतिबंध (1829) किया। (मेरी टिप्पणी – हिंदू शासकों ने अपनी रियासतों में कई और साल तक इस जघन्य प्रथा को जिंदा रखा। एक बात और। सती के खिलाफ अंग्रेजों से पहले एक मुस्लिम शासक ने सख्ती बरती थी। हिंदू मानस में उस बादशाह को सामूहिक घृणा का पात्र बना दिया गया है। जी हां, औरंगजेब ने 1663 में ये अपने अधिकारियों को आदेश दिया था की उसकी राज्यसीमा के अंदर कहीं भी किसी औरत को जिंदा जलने न दिया जाए। मैकाले और औरंगजेब में दो समानताएं हैं। दोनों ने स्थापित हिंदू मान्यताओं को ठेस पहुंचाई और भारतीय इतिहास में दोनों ही विलेन हैं) सन् 1832 और 1850 के कायदे के अनुसार धर्म परिवर्तन करने के बाद भी व्यक्ति को अपने संबंधियों की संपत्ति में उत्तराधिकारी बनाया गया। सन् 1840 में गुलामों के व्यापार को रोकने वाला कानून मंजूर हुआ। 1856 में पुनर्विवाह के कायदे को मंजूर करके हिंदू धर्म के नारी जीवन संबंधी मूलभूत तत्व को भारी ठेस पहुंचाई गई। 1865 में वह क्रांतिकारी कानून जिसे इंडियन सक्सेशन एक्ट कहा जाता है-पास किया गया, जो भारत के किसी भी जाति या धर्म के व्यक्ति को अन्यजातीय या अन्यधर्मी व्यक्ति से ववाह करने की अनुमति देता है। इस कानून ने जातिभेद और धर्मभेद की जड़ को ही उखाड़ दिया। ( अध्याय 6, पेज 273)

इसी किताब में इस बात की विस्तार से चर्चा की गई है कि पीनल कोड ने किस तरह भारतीय समाज को जमातों की जड़ता से मुक्त किया। अंग्रेजी शिक्षा औऱ अंग्रेजी कानून एक दूसरे के पूरक बने।

वर्णाश्रम व्यवस्था आधारित भारतीय सभ्यता को एक झटका अंग्रेजी राज में लगा। उसे दूसरा बड़ा और संभवत: निर्णायक झटका अब बदलते उत्पादन संबंधों की वजह से लग रहा है। सहाय जी का शोध इस बदलते समय पर कोई रोशनी डाल पाएगा क्या? और विधवा विवाह का निषेध, अंतर्जातीय विवाह पर पाबंदी और रक्त शुद्धता की अवधारणा, अस्पृश्यता, कर्म और जाति का संबंध यानी हर जाति के लिए खास कर्म का प्रावधान, बेटी का पैतृक संपत्ति में उत्तराधिकार का निषेध, कर्मकांड की प्रधानता, वैश्यों, शूद्रों और अंत्यजों के साथ औरतों की अवमानना – क्या इन सारे तत्वों को निकाल देने के बाद भी हिंदू सभ्यता में कुछ बचता है? और फिर सवाल है कि क्या वो इन तत्वों को बचाना चाहते हैं। -दिलीप मंडल

Advertisements

4 Responses to “…तो इसलिए जिंदा है भारतीय सभ्यता!”

  1. लिखने दीजिए मंडल जी। जो लिखा जा चुका है उसे भी पड़ा रहने दीजिए। परिवर्तन भारतीय संस्कृति का महत्वपूर्ण हिस्सा है। जाति बदलता है। धर्म बदलता है और सब कुछ सनातन चलता रहता है। यहां की संस्कृति को सब कुछ स्वीकार्य है। जो पिछड़ता है, रिजेक्ट हो जाता है।

  2. CresceNet said

    Gostei muito desse post e seu blog é muito interessante, vou passar por aqui sempre =) Depois dá uma passada lá no meu site, que é sobre o CresceNet, espero que goste. O endereço dele é http://www.provedorcrescenet.com . Um abraço.

  3. rakee said

    Hi, i have seen your blog its interesting and informative.I really like the content you provide in the blog.But you can do more with your blog spice up your blog, don’t stop providing the simple blog you can provide more features like forums, polls, CMS,contact forms and many more features.Convert your blog “yourname.blogspot.com” to http://www.yourname.com completely free.free Blog services provide only simple blogs but we can provide free website for you where you can provide multiple services or features rather than only simple blog.Become proud owner of the own site and have your presence in the cyber space.we provide you free website+ free web hosting + list of your choice of scripts like(blog scripts,CMS scripts, forums scripts and may scripts) all the above services are absolutely free.The list of services we provide are1. Complete free services no hidden cost2. Free websites like http://www.YourName.com3. Multiple free websites also provided4. Free webspace of1000 Mb / 1 Gb5. Unlimited email ids for your website like (info@yoursite.com, contact@yoursite.com)6. PHP 4.x7. MYSQL (Unlimited databases)8. Unlimited Bandwidth9. Hundreds of Free scripts to install in your website (like Blog scripts, Forum scripts and many CMS scripts)10. We install extra scripts on request11. Hundreds of free templates to select12. Technical support by emailPlease visit our website for more details http://www.HyperWebEnable.com and http://www.HyperWebEnable.com/freewebsite.phpPlease contact us for more information.Sincerely,HyperWebEnable teaminfo@HyperWebEnable.com

  4. very good blog, congratulationsregard from Catalonia Spainthank you

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: