Aharbinger's Weblog

Just another WordPress.com weblog

कुछ भी कभी कहीं हल नहीं हुआ

Posted by Isht Deo Sankrityaayan on May 31, 2011

कितनी बार हुई हैं
जाने ये बातें

आने-जाने वाली.
विनिमय के
व्यवहारों में कुछ
खोने-पाने वाली.
फिर भी कुछ भी कभी कहीं हल नहीं हुआ.

जल ज़मीन जंगल
का बटना.
हाथों में
सूरज-मंगल
का अटना.
बांधी जाए
प्यार से जिसमें
सारी दुनिया
ऐसी इक
रस्सी का बटना.

सभी दायरे
तोड़-फोड़ कर
जो सबको छाया दे-
बिन लागत की कोशिश
इक ऐसा छप्पर छाने वाली.
फिर भी कुछ भी कभी कहीं हल नहीं हुआ.

हर संसाधन पर
कुछ
घर हैं काबिज.
बाक़ी आबादी
केवल
संकट से आजिज.
धरती के
हर टुकड़े का सच
वे ही लूट रहे हैं
जिन्हें बनाया हाफ़िज.

है तो हक़ हर हाथ में
लेकिन केवल ठप्पे भर
लोकतंत्र की शर्तें
सबके मन भरमाने वाली.
इसीलिए, कुछ भी कभी कहीं हल नहीं हुआ.

Advertisements

9 Responses to “कुछ भी कभी कहीं हल नहीं हुआ”

  1. सभी कुछ हल ही हो जाएगा तो दुनिया के जीने खाने का मकसद ही ख़त्म नहीं हो जाएगा ? कविता प्यारी है !

  2. यहां तो कुछ और ही चलता है, लोग दूसरों को लूटने की कोशिश में लगे रहते हैं..

  3. शायद कभी हल होगा भी नहीं…उताम रचना.

  4. सबके मन का करने के प्रयास में किसी के मन का नहीं होता है।

  5. ग़म की अँधेरी रात में दिल को ना बेकरार कर सुबह जरूर आएगी सुबह का इंतज़ार कर नीरज

  6. है तो हक़ हर हाथ में लेकिन केवल ठप्पे भर लोकतंत्र की शर्तें सबके मन भरमाने वाली. इसीलिए, कुछ भी कभी कहीं हल नहीं हुआ.सच है….. इतना ही तो हक़ है…..

  7. बाबा रामदेव और अन्ना की कोशिश का साथ दें। शायद कुछ हला-भला हो जाय। 🙂

  8. http://shayaridays.blogspot.com

  9. निराशा में डूबे अंतर्मन की व्यथा को बहुत प्रभावपूर्ण अभिव्यक्ति दी है आपने….मन को छूती , उद्वेलित करती बहुत ही सुन्दर रचना…

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: