Aharbinger's Weblog

Just another WordPress.com weblog

Archive for the ‘दक्षिण भारत’ Category

रामेश्वरम : बेहद अपने लगने लगे राम

Posted by Isht Deo Sankrityaayan on December 31, 2010

हरिशंकर राढ़ी
कोडाईकैनाल से अपराह्नन चली हुई हमारी बस करीब साढ़े सात बजे मदुराई बस स्टैण्ड पर पहुँची तो झमाझम बारिश हो रही थी। बस से उतरे तो पता चला कि मित्र की जेब से बटुआ किसी ने मार लिया था। यह घटना हमारे लिए अप्रत्याशित थी। क्योंकि हमें विश्वास था कि दक्षिण भारत में ऐसा नहीं होता होगा। वैसे मुझे यह भी मालूम था कि मित्र महोदय बड़े लापरवाह हैं और उनकी अपनी गलती से भी बटुआ गिर सकता है। ऐसा एक बार पहले भी हुआ था, जब हम त्रिवेन्द्रम से मदुराई जा रहे थे। उस समय उनका बटुआ, जो पैंट की पिछली जेब में था और अधिकांश लोग ऐसे ही रखते हैं, गिरतेगिरते बचा था। मेरी पत्नी ने देख कर आगाह कर दिया था। बटुए में पैसा तो अधिक नहीं था किन्तु उनका परिचय पत्र, ड्राइविंग लाइसेन्स और एटीएम कार्ड था। हम सभी का परेशान होना तो स्वाभाविक था ही। तलाश प्रारम्भ हुई और अन्ततः निराशा पर समाप्त हुई। किन्तु पता नहीं क्यों मुझे बारबार ऐसा लग रहा था कि जेब किसी ने मारी नहीं है, अपितु पर्स लापरवाही से ही कहीं गिर गया होगा और मैं अकेले ही सोचता और गुनता रहा। अचानक मुझे लगा कि क्यों बस के नीचे देखा जाए। बस अभी भी वहीं खड़ी थी। उतरते समय उसमें गजब की भीड़ थी। जब मैंने बैठकर बस के नीचे देखा तो लगा कि कोई पर्स जैसी चीज है। एक दो मिनट बाद ही बस वहां से चल दी। मैंने लपक कर बटुआ उठा लिया और विजयी भाव से उनके पास आया। बटुआ तो उन्हीं का था। देखा गया तो पैसे निकाल लिए गए थे, किन्तु बाकी जरूरी कागजात उसमें मौजूद थे। सबने राहत की साँस ली, जैसे खोई हुई खुशी लौट आई।
बस स्टैण्ड से ऑटो कर के हम रेलवे स्टेशन पहुँचे और मालूम किया तो साढ़े ग्यारह बजे रात्रि की पैसेन्जर उपलब्ध थी। अभी लगभग आठ ही बज रहे थे। आराम से टिकट वगैरह लेकर आईआरसीटीसी के रेस्तरां में भोजन लिया और कुछ देर आराम करके गाडी की ओर गए। पूरी की पूरी ट्रेन जनरल ही है। ऊपर की बर्थ पर हम लोग आराम से फैल लिए हमारा अन्दाजा था कि सुबह चारपाँच बजे तक पहुँचेंगे गाडी कब चली, हमें पता ही नहीं चला। हाँ, दक्षिण की पैसेन्जर गाडियों में भी टिकट की जाँच बडी ईमानदारी से होती है, ये हमें जरूर पता लग गया। हम गहरी नींद में ही थे कि शोर हुआ, जागे तो पता चला कि हम पुण्यधाम रामेश्वरम पहुंच चुके हैं। अभी रात के ढाई ही बज रहे थे।
प्लेटफॉर्म पर स्थिर होते तीन बज चुके थे इतनी रात में वहाँ से जाना या होटल तलाशने के विषय में सोचना भी उचित नहीं था। अतः सुबह होने तक वहीं रुके रहना ही ठीक लगा। उत्तर भारत की तरह वहाँ भीडभाड का साम्राज्य तो था नहीं, अतः वहीं प्लेटफॉर्म पर ही आसन लग गया। चादरें निकाली गईं और लोग फैल गए। मुझे ऐसे मामलों में दिक्कत महसूस होती है। अनजान सी जगह पर घोडे बेच कर सोना मुझे सुहाता। इसलिए पास ही पडी कुर्सी पर बैठ गया और बोला कि आप लोग सोइए, मैं तो जागता ही रहूंगा।
कुर्सी पर बैठाबैठा मैं खयालों में डूब गया। यही रामेश्वरम है, जहाँ आने की जाने कब की इच्छा फलीभूत हुई है। शायद प्रागैतिहासिक काल की बात होगी जब मर्यादा पुरुषोत्तम राम हजारों मील की यात्रा करके यहाँ पहुँचे होंगे। कहाँ अयोध्या और कहाँ रामेश्वरम! अयोध्या का अस्तित्व तो तब बहुत ठोस था, किन्तु रामेश्वरम का तो अतापता भी नहीं रहा होगा! राम आते और रामेश्वरम बनता। सागर का एक अज्ञात किनारा ही रह जाता! अयोध्या से चलकर भटकतेभटकते, पैदल ही यहाँ पहुँचे होंगे। आज मैं भी उन्हीं की अयोध्या से ही आया हूँ। और लगा कि राम कितने अपने हैं। क्षेत्रीयता का पुट या अभिमान, जो भी कहें, मुझे महसूस होने लगा। आज कितनी सुविधाएँ हो गई हैं ! एक कदम भी पैदल नहीं चलना है और मैं राम की अयोध्या से उन्हीं के इष्ट देव भगवान शिव और उनकी स्वयं की कर्मभूमि रामेश्वरम में बैठा उन्हीं के विषय में सोच रहा हूँ। सचमुच उन्होंने उत्तर को दक्षिण से जोड़ दिया। संस्कृति को एकाकार कर दिया। उस राम की असीम कृपा ही होगी कि उनके पौरुष, आस्था और सम्मान की भूमि का स्पर्श करने उसे प्रणाम करने का अवसर प्राप्त हो पाया है। धन और सामर्थ्य में तो मैं लोगों से बहुत ही पीछे हूँ।
बैठेबैठे ही मेरा मन बहुत पीछे चला गया। कैसा समय रहा होगा राम का जब वे यहाँ आए होंगे? क्या मानसिकता रही होगी उनकी? अपने राज्य से परित्यक्त, पत्नी के वियोग में व्याकुल और स्वजनों से कितनी दूर? अपनी जाति और सामाजिक व्यवस्था से बिलकुल अलग, सर्वथा भिन्न बानरों की सेना लिए और मित्रता की डोर पकड़े उस महाशक्तिशाली मायावी दशानन रावण से टक्कर लेने यहाँ तक पहुँचे! यहाँ आकर उसी शिव का सम्बल लिया जिसका वरदहस्त पाकर ही रावण अजेय बना हुआ था। किन्तु शिव तो सदैव सत्य के साथ होता है, चाटुकारिता और उत्कोच के साथ नहीं। कितना सुन्दर संगम हुआ सत्य और शिव का यहाँ ! यही है वह रामेश्वरम और धन्य है मेरे जीवन का यह क्षण जब मैं (एक अयोध्यावासी) अपने राम के पद चिह्नों की रज लेने का अवसर प्राप्त कर पाया हूँ।
भोर की पहली किरण के साथ मैंने सबको जगाया और सामान समेट कर स्टेशन से बाहर गए। दो ऑटो किए गए और मंदिर की ओर प्रस्थान किया। यहाँ भी हमारी प्राथमिकता थी कि कोई होटल लेकर सामान पटकें, नहाएं धोएं और तब मंदिर की ओर चलें। ऑटो वाले ने खूब घुमाया और अपने स्तर पर होटल दिलाने का पूरा प्रयास किया। अब उसने इतना प्रयास क्यों किया, ये तो सभी ही जानते हैं। या तो कमरा सही नहीं, या फिर किराया बहुत ज्यादा! इधरउधर घूमने के बाद मैंने उसे नमस्ते किया और अपने तईं ही कमरे का इंतजाम करने की ठानी। बहुत जल्दी ही हमें एक होटल मंदिर के पीछे मुख्य सड़क पर ही मिल गया। हमने तुरन्त ही दो कमरे बुक कर लिए। रामेश्वरम में, मुझे ऐसा बाद में लगा, तीनचार सौ में डबल बेड के कमरे बडे आराम से मिल जाते हैं। वैसे वहाँ ठहरने के लिए सर्वोत्तम स्थान गुजरात भवन है जो मंदिर के मुख्य द्वार के बिलकुल पास है। यहाँ व्यवस्था अच्छी है और किराया मात्र दो सौ पचास रुपये।

सागर के खारे जल की बात तो और होती ही है, किन्तु यहां के जल में जो सबसे बडी समस्या हमें दिख रही थी वह थी गन्दगी। पानी बिलकुल डबरीला और अनेक प्रकार के प्रवहमान एवं स्थिर पदार्थों से युक्त था।

होटल में सामान जमाने के बाद हम सागर में स्नान के लिए निकल पडे। यहाँ आने की योजना बनाते समय ही मैंने ये मालूम कर लिया था कि सर्वप्रथम यहाँ मंदिर के मुख्य गोपुरम के सम्मुख बंगाल की खाडी में और तदुपरान्त उन्हीं गीले कपडों में मंदिर में स्थित बाईस कुंडों में स्नान करने की परम्परा और प्रावधान है। सागर के खारे जल की बात तो और होती ही है, किन्तु यहां के जल में जो सबसे बडी समस्या हमें दिख रही थी वह थी गन्दगी। पानी बिलकुल डबरीला और अनेक प्रकार के प्रवहमान एवं स्थिर पदार्थों से युक्त था। हाँ, पर इतना गंदा भी नहीं था कि घिन हो जाए या इतनी दूर से चलकर आने वाले की आस्था धरी की धरी ही रह जाए और वह तथाकथित कर्मकांड से सहज ही विमुख हो जाए। अंततः हम सबने भी हिम्मत बटोरी और बचतेबचाते उस डबरीले सागर में घुस गए।
अरब सागर के उस खारे पानी में नहा कर निकले तो अगला क्रम मंदिर के अन्दर बाईस कुण्डों में नहाने का था। वहाँ से गीले कपड़े में हम मंदिर की ओर चले ही थे कि कई पंडे हाथों में बाल्टी और रस्सी पकडे हमारी तरफ लपके और हमें नहला देने का प्रस्ताव करने लगे। इतने में हम मंदिर के मुख्य प्रवेशद्वार पर पहुँचे। यहाँ कुछ और सेवकों ने घेरा डाला। उनका कहना था कि वे हर सदस्य को पूरी बाल्टी भर कर हर कुंड पर नहलाएंगे और सौ रुपये प्रति सदस्य लेंगे। पचास रुपये तो प्रवेश शुल्क और सरकारी फीस ही है। यह बात सच थी कि प्रवेश शुल्क पचीस रुपये प्रति व्यक्ति था और नहलाने का भी उतना ही। सत्तर रुपये में बात लगभग तय ही होने वाली थी कि मेरे मित्र महोदय को चिढ गई और वे सरकारी नियम के अन्तर्गत प्रवेश लेने चल पडे। उन्हें नियम विरुद्ध कोई भी बात जल्दी अच्छी नहीं लगती और अपने देश की व्यवस्था में वे अकसर फेल हो जाते हैं। इस बार भी ऐसा ही हुआ। साथ निभाने के लिए मुझे भी पीछेपीछे चलना पड़ा, हालाँकि मैं जानता था कि हमें अन्दर जाकर दिक्कत होगी।
टिकट लेकर प्रवेश किया तो पहले कुंड पर एक सेवक खडा मिल गया। कुंड का मतलब यहाँ कुएँ से है। ऐसे ही गहरेगहरे बाईस कुएँ यहाँ हैं जिनके जल से नहाने की यहाँ परम्परा है। कुल मिलाकर हम आठ सदस्य थे और आगे परेशानी शुरू होनी थी, हुई। सभी कुएँ एक जगह नहीं बल्कि दूरदूर हैं। दो चार कुंडों के बाद नहलाने वाले सेवक भारतीय व्यवस्था के अनुसार नदारद! अधिकांश बाहर से ही यजमान पटा कर ले आते हैं और उन्हें ही नहलाने में व्यस्त रहते हैं। हम तो जैसे जनरल वार्ड के मरीज हो रहे थे। मुझे मित्र पर मन ही मन गुस्सा भी रहा था। अंततः एक ग्रुप के साथ ही हम भी लग गए। उससे हमारी सुविधा शुल्क की शर्त पर सेटिंग हो गई। अगर आपको कभी जाना हो और इस धार्मिक कर्मकांड का भागी बनना हो तो आप भी किसी पंडे से मोलभाव कर ठेका छोड दें। सुखी रहेंगे।
वैसे यहाँ कुंडों में स्नान करना अच्छा लगता है।

Advertisements

Posted in दक्षिण भारत, पर्यटन, मदुराई, यात्रा वृत्तांत, रामेश्वरम, rameshwaram, south india, tourism, travelogue | 5 Comments »

पोंगापंथ अप टु कन्याकुमारी -4

Posted by Isht Deo Sankrityaayan on October 29, 2009

तिरुअनन्तपुरम में अब कुछ खास नहीं बचा था इसलिए हमने सोचा कि हमें अब आगे चल देना चाहिए। दिल्ली में बैठे- बैठे हमने जो योजना बनाई थी उसके मुताबिक हम तिरुअनन्त पुरम में एक रात रुकने वाले थे। इसी योजना के अनुसार हमने 23 सितम्बर के लिए मदुराई पैसेन्जर में सीटें आरक्षित करवा ली थीं। यहां का सारा आवश्यक भ्रमण पूरा हो गया था और अब वहां केवल वे ही स्थान थे जो यूं ही समय बिताने के लिए देखे जा सकते थे, हमें काफी कुछ घूमना था इसलिए निर्णय लिया कि अगले दिन का आरक्षण निरस्त करवा कर आज ही इसी गाड़ी से मदुराई चल दें। वहां की गाड़ियों में भीड़ कम होती है और कोई खास परेशानी होने वाली नहीं थी।

स्वामी पद्मनाभ मंदिर से लौटकर सर्वप्रथम हमने आरक्षण निरस्त कराया । त्रिवेन्द्रम स्टेशन का आरक्षण कार्यालय हमें दिल्ली के सभी आरक्षण कार्यालयों से अच्छा और सुव्यवस्थ्ति लगा। स्वचालित मशीन से टोकन लीजिए और अपनी बारी की प्रतीक्षा कीजिए, लाइन में लगने की कोई आवश्यकता ही नही। एक डिस्प्ले बोर्ड पर आपका नंबर आ जाएगा और आपका काउंटर नंबर भी प्रर्दशित हो जाएगा। ऐसी व्यवस्था तो राजधानी दिल्ली में भी नहीं है जहां कि भारत सरकार का रेल मंत्रालय स्थित है। खैर, आरक्षण निरस्त करवा कर हम वापस आए । मदुरै पैसेन्जर सवा आठ बजे की थी । स्टेशन पर स्थित आई आर सी टी सी के रेस्तरां में हमने खाना खाया। यह इस दृष्टि से प्रशंसनीय है कि यहां खाद्य पदार्थ अच्छा और तार्किक दर पर मिलता है।हालांकि मुख्य उपलब्धता दक्षिण भारतीय व्यंजनो की ही होती है पर यह कोई बड़ी समस्या नहीं है। अपना सामान क्लोक रूम से वापस लिया और गाड़ी के आने की प्रतीक्षा करने लगे।

यहां हम एक बड़े संकट में फंसते- फंसते बचे! दरअसल हमने आरक्षण तो निरस्त ही करवा दिया था और अब हमें सामान्य दर्जे में सफर करना था , टिकट भी हमने ले ही लिया था। त्रिवेन्द्रम से मदुरै लगभग 300 किमी है और इस पैसेन्जर गाड़ी का किराया मात्र 41/- है। मेरे मित्र ने सुझाव दिया कि ट्रेन आ जाए तो हम लोग पहले सीटें ले लें और बाद में पत्नी और बच्चों को लिवा लाएं। सुझाव मुझे तो बहुत अच्छा नहीं लगा, एक साथ ही सवार हो लें तो अच्छा हो किन्तु दबे मन से सुझाव मैंने भी मान लिया। ट्रेन आई, जोरों की बारिश हो रही थी। भाषाई समस्या के कारण यह भी ज्ञात नहीं हुआ कि गाड़ी आएगी किधर से और सामान्य डिब्बे लगते किधर हैं ? गाड़ी आई तो हम दोनों एक तरफ दौड़े , उधर डिब्बे भरे हुए थे। लिहाजा हमें दूसरी ओर जाना पड़ा। सीटें खाली मिल गई तो सन्तोष हुआ। अपने साथ मैं बेटी को भी ले गया था। ऊपर की कई सीटें हमें आसानी से मिल गई थीं । बेटी और मित्र को सीटों की रक्षा का दायित्व सौंपकर मैं बाकी सदस्यों को लिवाने पहुँचा और बमुश्किल चला ही था कि गाड़ी चल पड़ी ! हमारा अनुमान था कि स्टेशन बड़ा है और ट्रेन देर तक रुकेगी । रात का वक्त और सुदूर अनजान देश ! अब क्या करें, मैं तो पिछले डिब्बे में चढ़ भी जाता किन्तु महिलाओं और बच्चों का क्या करें ? इस सारी घबराहट के बीच अब बस मोबाइल का ही सहारा थोड़ी सी ऑक्सीजन दे रहा था, भगवान का शुक्र कि मित्र बेटी को लेकर जल्दबाजी का परिचय देते हुए उतर गए थे और खिड़की से गाड़ी के अन्दर झांक रहे थे- इस आशंका से कि कहीं हम लोग पीछे के किसी कंपार्टमेन्ट में चढ़ न गए हों। इस बीच बेटी ने मुझे देख लिया और हम सभी एक दूसरे को एक साथ देखकर जैसे विश्वास करने की कोशिश कर रहे हों कि हम वास्तव में पुनः साथ हैं।

बारिश अभी भी जोरों से हो रही थी। राहत की सांस लेने और अपनी गल्ती एवं परिस्थिति की समीक्षा करने के बाद आगे के कार्यक्रम पर विचार करना शुरू किया । पूछताछ की तो पता चला कि अगली गाड़ी सुबह पौने चार बजे है। अर्थात लगभग 6 घंटे तक प्रतीक्षा ! बस में जाने के लिए न तो बच्चे तैयार और बारिश की वजह से बाहर निकलने और बस अड्डे तक जाने की गुंजाइश । वैसे 300 किमी की बस यात्रा के लिए पूर्णतः तैयार मैं भी नहीं था। अब या तो हम प्रतीक्षा करें -यहीं रेलवे के विश्रामालय में या होटल की तलाश करें । होटल के लिए भी बाहर जाना ही होता , अतः हमने मन मारकर यहीं रुकने का निर्णय किया और अगली ट्रेन जो प्रातः पौने चार बजे की थी ,की प्रतीक्षा करने का विकल्प स्वीकार कर लिया।

विश्रामालय में ही आसन लगा। मित्र सपरिवार निद्रानिमग्न हो गए। कोशिश मैंने भी की किन्तु सफलता नहीं मिली। घंटे भर लोट-पोट , अंडस -मंडस करता रहा , फिर हार मानकर बैठ गया। वैसे भी यात्रा में मैं कम सामान और कम भोजन के फार्मूले पर चलता हूँ और सुखी महसूस करता हूँ ।बहरहाल, रात निकलती गई और गाड़ी के आने का समय हो गया। सबको जगाया और चेन्नई एगमोर एक्सप्रेस में हम सवार हो गए।तुलनात्मक रूप से इसमें भीड़ थी । चूंकि हम इन बातों को स्वीकार कर के सवार हुए थे इसलिए कोई विशेष दिक्कत नहीं हुई।आगे गाड़ी खाली होती गई और हमें आराम करने की जगह भी मिलती गई।

सुबह नौ-दस बजे तक हम थोड़ा आश्वस्त हो चुके थे और स्थानीय प्रकृति,टोपोग्राफी और भौगोलिक दृश्यों का आनन्द लेने लग गए थे। जो कुछ दक्षिणी पठार के विषय में किताबों में पढा था वह देख रहा था। वहां की मिट्टी और बनस्पतियां हमारे अध्ययन की केन्द्र में थीं । साथ चल रहे यात्रियों का ढंग, भोजन एवं तौर तरीका हमारे लिए आकर्षण था। ज्यादातर यात्री साथ में इडली और चटनी लेकर आए थे और मौका पाते ही चट करने में लग जाते थे । भाग्यवश कुछ सहयात्री ऐसे थे जो थोड़ी बहुत अंगरेजी समझ ले रहे थे । उनसे ही हम कुछ-कुछ जानकारी पा जा रहे थे।

मदुरै पहुंचाने में इस गाड़ी ने लगभग सात घंटे लिया । मदुरै तमिलनाडु का एक बड़ा रेलवे जंक्शन है । यहां से उत्तर भारत, दक्षिण के कई बडे नगरों, रामेश्वरम एवं कन्या कुमारी जैसी जगहों के लिए गाड़ियां मिलती है। यह दक्षिण भारत की एक प्रकार से सांस्कृतिक राजधानी है।अपनी प्राचीन सभ्यता, संस्कृति एवं सिल्क उद्योग के लिए यह भारत में ही नहीं अपितु विदेशों तक मे विख्यात है ।

हम यहां लगभग 11बजे दिन में पंहुचे थे और थके हुए थे। हमारी प्राथमिकता थी यथाशीघ्र होटल लेना , नहा धोकर तरोताजा होना और फिर मीनाक्षी मंदिर का दर्शन करना। स्टेशन से बाहर आए तो ऑटो और टैक्सी वालों ने हमें धरा। दक्षिण भारत के दिल्ली स्थित एक मित्र ने सुझाया था कि परिवार स्टेशन पर ही छोड़कर पहले होटल तलाश लेना फिर परिवार ले जाना। साथ वाले मित्र का भी कुछ ऐसा विचार था । पर, मैं कुछ रात की घटना से और कुछ थकान से इस विचार से सहमत नहीं हुआ। एक साथ ही चलते है। जो भी सस्ता महंगा पड़ेगा , देखा जाएगा! एक बार कमरा ढूंढ़ो, फिर परिवार लेने आओ। ना भाई ना। और यह जानते हुए भी कि ऑटो वालों का कमीशन बंधा होता है, इनके साथ जाने से कमरा कमीशन जोड़कर ही मिलता है, हमने उन्हीं के साथ जाना उचित समझा। शायद यह भी एक परिस्थिति ही होती है कि आदमी जानते हुए भी ठगे जाने को तैयार होता है!

इस बार कोई भी पोंगापंथ अभी तक सामने नहीं आया। थोड़ा बहुत पोंगा मैं ही साबित हुआ। हां, मंदिर में ले चलूंगा तो पोंगापंथ जरूर दिखाऊंगा। यात्रा अभी जारी है…………

Posted in दक्षिण भारत, धर्म, यात्रा, समाज, travelogue | 4 Comments »