Aharbinger's Weblog

Just another WordPress.com weblog

Archive for the ‘निठारीकरण’ Category

निठारीकरण हो गया

Posted by Isht Deo Sankrityaayan on December 21, 2009

कर दिया जो वही आचरण हो गया ।

लिख दिया जो वही व्याकरण हो गया ।

गोश्त इन्सान का यूं महकने लगा

जिंदगी का निठारीकरण हो गया ।

क्योंकि घर में ही थीं उसपे नज़रें बुरी

द्रौपदी के वसन का हरण हो गया ।

उस सिया को बहुत प्यार था राम से

पितु प्रतिज्ञा ही टूटी , वरण हो गया ।

‘राढ़ी ‘ वैसे तो कर्ता रहा वाक्य का

वाच्य बदला ही था, मैं करण हो गया ।

कल भगीरथ से गंगा बिलखने लगी

तेरे पुत्रों से मेरा क्षरण हो गया । ।

Advertisements

Posted in ग़ज़ल, निठारीकरण, society | 8 Comments »