Aharbinger's Weblog

Just another WordPress.com weblog

Archive for the ‘kerala’ Category

पोंगा पंथ अप टु कन्याकुमारी -3

Posted by Isht Deo Sankrityaayan on October 18, 2009

दिये में तेल डालने का शुल्क देकर हम आगे निकले ही थे कि एक दूसरे कार्यकर्ता ने हमें रोका । उसके पास रसीदों की गड्डी थी । उसकी आज्ञानुसार हमें प्रति व्यक्ति पांच रुपये का टिकट लेना था । सामने एक बोर्ड पर क्षेत्रीय भाषा में पता नहीं क्या – क्या लिखा था जिसे वह हमें बार- बार दिखा रहा था । उसमें हम जो पढ़ सकते थे वह था अंगरेजी में लिखा हुआ – एंट्री-५/-। हमें लगा कि शायद यह मंदिर का प्रवेश शुल्क होगा । जब हमने टिकट ले लिया तो उसने इशारा किया कि हमें ऊपर जाना है । हालांकि हमारी ऐसी कोई इच्छा नहीं थी , फिर भी जाना ही पड़ा । हमने सोचा कि शायद कोई दर्शन होगा । बहरहाल , सीढ़ियाँ चढ़कर प्रथमतल पर गए तो वहां एक हाल सा था जिसमें कुछ चित्र लगे हुए थे। प्रकाश की कोई व्यवस्था नहीं थी, सीलन भरी पड़ी थी और एक तरफ चमगादड़ों का विशाल साम्राज्य था – कुछ उल्टे लटके थे तो कुछ हमारे जाने से विक्षोभित हो गए थे और अपना गुस्सा प्रकट कर रहे थे। अब इसके ऊपर जाना हमने उचित नहीं समझा और नीचे आ गए। इस दरवाजे को पार कर हम आगे निकले और दर्शन की पंक्ति में लग गए। यहां हमें मालूम हुआ कि जिस प्रथम माले से हम वापस आए थे, उसके ऊपर छः माले और हैं तथा सातवें माले से पूरा शहर दिखता है और वे पांच रुपये इसी के एवज मे लिए जाते हैं। वस्तुतः मंदिर का गोपुरम सात मंजिल का है और मंदिर प्रशासन ने अपने व्यवसाय प्रबंधन कुशलता का परिचय देते हुए नगरदर्शन की यह सुविधा उपलब्ध करवाई है।
खैर, नगरदर्शन से वंचित होने का हमें कोई क्षोभ नहीं हुआ।हम सभी पंक्तिबद्ध थे।शाम के साढ़े चार बजे होंगे। अचानक कुछ लोग समूह में आए और पंक्ति को उपेक्षित कर आगे बढ़ गए। मैंने सोचा था कि कम से कम ऐसी जगह पर तो लोग स्वानुशासन में रहेंगे परन्तु शायद यह भी अपने देश की विविधता में एकता है ! चाहे उत्तर हो या दक्षिण, नियम तोड़ने में हम बराबर के हिस्सेदार है। पांच बजे के करीब दर्शन शुरू हुए होंगे । अब लाइन का नाम करीब-करीब मिट गया था। ढंग की -धक्का मुक्की थी। अन्दर न तो पुलिस की कोई व्यवस्था थी और न स्वयंसेवकों का कोई अता-पता !गनीमत यह थी कि चोरी -जेबतराशी जैसी महामारी वहाँ नही के बराबर है। वैसे भी हमारे पर्स हमारे हाथों में ही थे। भीड़ में दम घुट सा रहा था। बस, केवल दर्शन करके हम बाहर निकलने के प्रयास में लग गए और किसी तरह जल्दी ही सफल भी हो गए। कोई पूजा या प्रसाद के चक्कर में हम थे भी नहीं! हां, मंदिर बड़ा ही भव्य है और उसके स्थापत्य और विशालता को जितना देख और समझ सकता था, उतना प्रयास करता रहा।
स्वामी पद्मनाभ का यह मंदिर भी दक्षिण भारतीय शैली के स्थापत्य कला का एक बेजोड़ नमूना है। अत्यन्त विशाल यह मंदिर हिन्दू धर्म के वैभव का प्रतीक है और एक समृद्ध समाज का परिचायक है।दूर से ही इसका विशाल गोपुरम दर्शकों और श्रद्धालुओं को खींच लेता है।
समूचा मंदिर विशाल पत्थरों को तराश कर बनाया गया है।यह मंदिर पद्मनाभस्वामी क्षेत्रम् और अनन्तपुरी के नाम से विख्यात है। मंदिर का मुख्य द्वार पूर्वाभिमुख है और इसका गोपुरम सात मालों का है जिसकी उंचाई 100 फीट है। गोपुरम के सम्मुख एक विशाल सरोवर पद्मतीर्थम है जो मंदिर की सुंदरता में अभिवृद्धि करता है । यह बात अलग है कि इसकी साफ सफाई पर कोई ध्यान देने वाला मुझे नहीं लगा।
मन्दिर का गलियारा भी बहुत बड़ा है और 365 खंभो को बड़ी बारीकी से तराश कर लगाया गया है। गर्भगृह एक विशाल चबूतरे पर है जो एकमात्र पत्थर को काटकर बनाया गया है और इसे ओट्टकल मंडपम के नाम से जाना जाता है। इसके बारे में भी बहुत सी किंवदंतियां हैं। जैसा कि मंदिर के नाम से ही स्पष्ट है, मंदिर स्वामी पद्मनाभ को समर्पित है जो भगवान विष्णु का ही एक रूप है। विग्रह की मुख्य विशेषता यह है कि यह शयन मुद्रा में है। कहा जाता है कि यह विग्रह कुल 12008 शालिग्राम को जोड़कर बनाया गया है जो नेपाल स्थित गंडकी नदी से लाए गये थे। इसके अतिरिक्त यहां श्री नरसिंह, श्री हनुमान, श्री कृष्ण ,श्री अइयप्पा और श्री गरुण की मूर्तियां भी स्थापित हैं। वस्तुतः यह 108 देवदर्शन में एक प्रमुख स्थल है।
मंदिर की संपूर्णता का आनन्द तो बस देखकर ही लिया जा सकता है । अगर पूरी जानकारी प्राप्त कर लेख लिखा जाए तो कई पृष्ठों में जाएगा। हां, मैं आपका ध्यान दर्शन के समय पर जरूर दिलाना चाहूंगा, जरा इस विचित्रता को गौर फरमाएं । देव दर्शन की यह समयबद्धता कम से कम मुझे तो बिलकुल नहीं सुहाई। क्या यह बेहतर नहीं होगा कि ईश्वर को हम अपने नियमों में न बांधे और उसे तो श्रद्धालुओं के लिए मुक्त कर दें!
यह रही स्वामी पद्मनाभ के दर्शन की समय सारणी-
पूर्वाह्न -3:30 – 4:45
6:30 -7:00
8:30 -10:00
10:30-11:00
11:45-12:00
अपराह्न
5:00-6:15
6:45-7:20

Posted in धर्म, यात्रा, व्यंग्य, समाज, Hindi Literature, kerala, padnabh temple, south india, travelogue | 11 Comments »

पोंगापंथ अप टु कन्याकुमारी -2

Posted by Isht Deo Sankrityaayan on October 11, 2009

मैंने अपनी यह यात्रा हज़रत निज़ामुद्दीन से चलने वाली हज़रत निज़ामुद्दीन – त्रिवेन्द्रम राजधानी एक्सप्रेस (ट्रेन नं.2432) से शुरू की थी. इस गाडी को त्रिवेन्द्रम पहुंचने में पूरे सैंतालीस घंटे लगते हैं और यह कोंकण रेलवे के रोमांचक और मनमोहक प्राकृतिक दृष्यों से होकर गुजरती है. केरल प्राकृतिक रूप से बहुत ही समृद्ध है और केरल में प्रवेश करते ही मन आनन्दित हो गया. यात्रा लंबी अवश्य थी किंतु अच्छी थी –अनदेखी जगहें देखने की उत्कंठा थी अतः महसूस नहीं हुआ. मेरे साथ मेरे एक मित्र का परिवार था. पति- पत्नी और दो बच्चे उनके भी. बच्चे समवयस्क ,उन्होंने अपना ग्रुप बना लिया.
त्रिवेन्द्रम अर्थात तिरुअनंतपुरम केरल की राजधानी है. यहां कुछ स्थान बहुत ही रमणीय और दर्शनीय है. मैंने जो जानकारी इकट्ठा की थी, उसके अनुसार त्रिवेन्द्रम में दो जगहें हमें प्राथमिकता के तौर पर देखनी थीं.प्रथम वरीयता पर था स्वामी पद्मनाथ मंदिर और दूसरे पर कोवलम बीच. अधिकांश मन्दिरों के साथ दिक्कत उनकी समयबद्धता से है . दक्षिण भारत के मंदिर एक निश्चित समय पर और निश्चित समयावधि के लिए खुलते हैं. गोया सरकारी दफ्तर हों और भगवान के भी पब्लिक मीटिंग आवर्स हों . भगवान पद्मनाथ का यह विख्यात मंदिर भी मध्याह्न 12 बजे बंद हो जाता है. इसके बाद सायं चार बजे प्रवेश प्रारम्भ होता है और दर्शन पांच बजे से हो सकता है . हम त्रिवेन्द्रम सवा नौ बजे पहुंच गए थे और रेलवे के विशेष प्रतीक्षालय (यहां एक एसी प्रतीक्षालय है जिसमें प्रति यात्री प्रति घंटा दस रुपये शुल्क लिया जाता है) में नहा-धोकर ,तरोताज़ा होकर 11 बजे तक तैयार हो गए थे. वहां घूमने –देखने लायक इतना कुछ नही है ,इस लिए हमारी योजना उसी रात मदुरै निकल जाने की थी. सामान हमने क्लॉक रूम में जमा करा दिया था. मंदिर के विषय में मालूम था ,इस लिये पहले हम कोवलम बीच घूमने चले गए.
कोवलम बीच रेलवे स्टेशन से लगभग 13 किमी की दूरी पर है . हमने स्टेशन से ही प्रीपेड आटो ले लिया था. मजे की बात है कि वहां प्रीपेड के नाम पर केवल पर्ची कटती है,भुगतान गंतव्य पर पहुंचने के बाद ड्राइवर कोइ ही करना होता है. भुगतान की रकम पर्ची पर लिखी होती है और पर्ची का शुल्क एक रूपया मात्र होता है.
कोवलम बीच वास्तव में एक सुन्दर अनुभव है. अरब सागर की उत्ताल तरंगें नारियल के झुरमुट से सुशोभित तट की ओर भागती चली आती हैं , बस सबकुच भूल कर उसकी विशालताऔर अनंतता को देखते रहने को जी चाहता है.
बहरहाल , लगभग चार बजे हम स्वामी पद्मनाथ मंदिर पहुंच गए. मंदिर निःसन्देह बहुत विशाल और भव्य है. इसका गोपुरम दूर से ही मन को मोह लेता है. हम द्वार की तरफ बढे ही थे कि हमें सामान क्लॉक रूम में जमा कराने का इशारा मिला (भाषाई समस्या वहां प्रायः झेलनी पडती है ) और हम समीप स्थित क्लॉक रूम तक पहुंच गए. जैसा कि मैने पहले ही बताया कि मंदिर के लिए ड्रेसकोड निर्धारित है ,उसका पालन करना ही था. हालांकि हम स्थिति ठीक से समझ नही पाये थे. क्लॉक रूम के बाहर सामान जमा की दर भी लिखी हुई है.चलिए , अब आप सारे कपडे उतार दीजिए,बस एक मात्र अंतः वस्त्र को छोडकर. मोबाइल वगैरह तो जमा होता ही है .अब आपको वे एकलुंगी नुमा धोती दे देंगे, उसे लपेट लीजिए, अगर लपेटने में कठिनाई है तो वे मदद भी कर देंगे ! हाँ, इस धोती का किराया है रु.15/- . धोती बाद में लौटा दीजिएगा, पर किराया अभी जमा करा दीजिए. महिला के लिए शुद्ध भारतीय वेश-भूषा अर्थात साडी ही अनुमन्य है.महिला ने साडी नहीं कुछ और पहना है तो 15/ मे लुंगी नुमा धोती उपलब्ध है.उसे बस ऊपर से लपेट लीजिए, अन्दर का सब कुछ चल जाएगा !यह व्यवस्था बच्चों पर भी लागू है . इस धार्मिक सुविधा केन्द्र पर सात धोती (बच्चों के लिए लगभग हाफ लुंगी/धोती ) लेने और पैंट-कमीज़ मोबाइल देने के रुपये 208/ लगे. हाँ, हमारे पर्स नहीं जमा हुए, उन्हें हम ले जा रहे थे अन्दर. हर श्रद्धालु के हाथ में अब केवल पर्स था ,जैसे वह पर्स न हो, पूजा का फूल हो ! यह भी एक दृश्य था ,जिसे शायद महसूस कर रहा था.
अन्दर प्रवेश करते ही एक ‘सेवक ‘ दौडा. बडी लगन से उसने छोटे –छोटे चार दिये तेल के (क्योंकि चार सदस्य क परिवार था) पकडाए. यहां का कोई नियम मानकर हमने दिये ले लिए, बगल के एक बडे जलते दिये में उसे उडेला और उसके भी बीस रुपए हो गये . यह बात बाद में समझ पाया कि यह सब केवल दूर से आने वाले दर्शनार्थियों के लिए है, स्थानीय तो सब जानते है .ऐसी एक दो घट्नाएं और हुई6 जिनका जिक्र अच्छा नहीं होगा. मंदिर के अन्दर हम पंक्तिबद्ध थे. लोग हाथों में पर्स पकडे चले आ रहे थे. पता नहीं किसका कितना ध्यान स्वामी पद्मनाथ पर था , कितना पर्स की संभाल पर!
आगे जारी……..

Posted in धर्म, यात्रा वृत्तांत, व्यंग्य, culture, Hindi Literature, kerala, satire, society, travelogue | 11 Comments »