Aharbinger's Weblog

Just another WordPress.com weblog

Archive for March, 2011

नाम है भ्रष्टाचार !!!!!! [होली है !]

Posted by Isht Deo Sankrityaayan on March 21, 2011

होली के दिन जनमा
एक नेता का बेटा,
मुसीबत बन गया
चैन से नहीं लेता ?

पैदा होते ही
कमाल कर गया,
उठा, बैठा और
नेता की कुर्सी पर चढ़ गया !

यह देख डॉक्टर घबराई,
बोली – ये तो अजूबा है !
इसके सामने तो
साइंस भी झूठा है !!
इसे पकड़ो और लिटाओ
दुधमुंहा शिशु है, माँ का दूध पिलाओ ।

दूध की बात सुनकर
शिशु ने फुर्ती दिखाई,
पास खड़ी नर्स की
पकड़ी कलाई
बोला – आज तो होली है,
ये कब काम आएगी,
काजू-बादाम की भंग
अपने हाथों से पिलाएगी ।

नेता और डॉक्टर के
समझाने पर भी वह नहीं माना,
चींख-चींखकर अस्पताल सिर पर उठाया,
और गाने लगा ‘शीला’ का गाना !

उसके बचपने में
‘शीला की ज़वानी’ छा गई,
‘मुन्नी बदनाम न हो
इसलिए नर्स भंग की रिश्वत लेकर आ गई !

शिशु को भंग पीता देख
नेताजी घबराये और बोले –
‘तुम कौन हो और
क्यों कर रहे हो अत्याचार ?’
शिशु बोला – तुम्हारी ही औलाद हूँ
और नाम है भ्रष्टाचार

[] आप सबका हुरियारा – राकेश ‘सोहम’

Advertisements

Posted in हास्य कविता | 3 Comments »

Gazel

Posted by Isht Deo Sankrityaayan on March 13, 2011

         गज़ल

                   -हरिशंकर   राढ़ी

बन जाए सारी  उम्र गुनहगार इस तरह ।
करना न मेरी जान कोई प्यार इस तरह।
सुनता  हूँ सकीने  पे भी लहरें मचल उठीं
दरिया के दिल पे हो गया था वार इस तरह।
महफिल में गम की आ गए यादों के परिंदे
सूना सा मेरा दिल हुआ गुलजार इस तरह।
उल्फत की जंग में न रहा जीत का जज़्बा 
हम   एक  दूसरे से  गए  हार इस तरह ।
सपने  खरीदते रहे जीवन  के मोल हम
चलता रहा इस देश में व्यापार इस तरह।
तनहा गुजारनी थी मुझे रात वो ‘राढ़ी’
मुझमें समा गया था मेरा यार इस तरह।

Posted in gajal | 8 Comments »